Swasth Sharir Swasth Man Essay In Hindi

स्वास्थ्य ही धन है


एक बड़ी पुरानी कहावत है - 'स्वास्थ्य ही धन है'। व्यक्ति के जीवन में स्वास्थ्य ही अधिक मूल्यवान होता है। जिस व्यक्ति का स्वास्थ्य अच्छा होता है उस व्यक्ति का मस्तिष्क, सोचने-समझने की क्षमता तथा कार्य के प्रति निष्ठा सही होती है और तभी वह व्यक्ति किसी भी कार्य को करने में सफलता प्राप्त कर पाता है।

स्वस्थ जीवन ही सफलता प्राप्त करने की कुंजी है। किन्तु अक्सर देखा जाता है कि कम उम्र में ही व्यक्ति न जाने कितनी बीमारियो से ग्रसित हो जाते है। इसका मुख्य कारण होता है व्यक्ति के जीवन में नियमित सही दिनचर्या का न होना। यदि हम अपनी नियमित दिनचर्या में प्राणायाम और योग और ध्यान को शामिल कर लें तो हमारा स्वास्थ्य बेहतर हो सकता है।

जीवन में स्वास्थ्य ही अनमोल धन है। शारीरिक रूप से स्वस्थ्य व्यक्ति ही जीवन के विभिन्न क्षेत्रो में सफलता अर्जित कर सकते है। स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मन का निवास होता है। व्यक्ति की सबसे बड़ी दौलत उसका शरीर और उसका स्वास्थ्य होता है। जीवन में स्वास्थ्य का मूल्य समझ कर ही विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्थापना की गई थी। अतः प्रत्येक व्यक्ति को अपने स्वास्थ्य के प्रति सदैव सजग रहना चाहिए।

अच्छे स्वास्थ्य के लिए संतुलित आहार खाने की जरूरत होती है। स्वस्थ संतुलित आहार शरीर को मजबूत बनाता है तथा रोगों से लड़ने के लिए उसकी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। साथ ही संतुलित आहार दिमाग को तेज तथा स्वस्थ बनाता है, जिससे आप मानसिक रूप से भी मजबूत बनते हैं। स्‍वस्‍थ संतुलित आहार करने से आप घर तथा दफ्तर दोनों जगह बेहतर काम कर पाते हैं। स्‍वस्‍थ भोजन के अभाव में थकान और अन्‍य कई प्रकार के रोग घेर सकते हैं।

संतुलित आहार की कुछ मूल बातें

एक स्वस्थ संतुलित आहार में सभी खाद्य समूहों से खाद्य पदार्थ शामिल होते हैं। वे भोजन जिनमें संतृप्त वसा, ट्रांस फैट और कोलेस्ट्रॉल की मात्रा अधिक होती है वे शरीर में कोलेस्ट्रोल के स्तर में वृद्धि करते हैं और स्वस्थ आहार की श्रेणी में नहीं आते। यदि आप अपनी हड्डियों को स्वस्थ व मजबूत रखना चाहते हैं तो एल्कोहोल से परहेज में ही आपकी भलाई है। जब आपके शरीर को आवश्क कैल्शियम की मात्रा नहीं मिलती तो वह हड्डियों से आवश्क कैल्शियम लेना शुरू कर देता है। और यदि यह बार-बार होता है तो हड्डियां पतली और भंगुर हो जाती हैं। यही नहीं मधुमेह की रोकथाम में एक स्वस्थ और संतुलित आहार बड़ी भूमिका निभाता है।

स्वस्थ शारीरिक विकास

हमारा शरीर पोषक तत्वों को भोजन से निचोड़ कर शरीर को चलाने और उसके विकास तथा निर्माण के लिए ऊर्जा देता है। भोजन सिर्फ शरीर ही नहीं बल्कि खूबसूरत त्वचा, बाल, आंख और दांत के लिए भी योगदान देता है। एक संतुलित स्वस्थ आहार किसी भी आयु में आवश्यक होता है, खासतौर पर एक बढ़ते हुए बच्चे के लिए। किसी भी बच्चे का आहार, स्वस्थ व संतुलित होना ही चाहिए ताकि बच्चा बच्चे मोटापे का शिकार ना हो और उसे मोटापे से जुडी़ अन्य स्वास्थ्य समस्याओं से जूझना ना पड़े। भारतीय स्वास्थ्य सेवा के एक कार्यक्रम के अनुसार अलग-अलग उम्र के बच्चे, जो एक स्वस्थ संतुलित आहार का पालन कर रहे थे, उन्होंने कक्षा में अच्छा प्रदर्शन किया क्योंकि उन्हे सभी जरूरत के आहार-पोषण की प्राप्ति हुई थी जो उनके दिमाग व शरीर को सुचारू रखने के लिए आवश्‍यक थी।

मजबूत हड्डियां

यदि आप मजबूत हड्डियां चाहते हैं, तो आपको एक स्वस्थ संतुलित आहार की विशेष जरूरत है। कैल्शियम युक्त भोजन आपको हड्डियां मजबूत बनाने वाली वह सारी चीजें प्रदान करता है जिनकी शरीर को 18 से 25 वर्ष की उम्र के बीच जरूरत होती है। कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ आपको 25 वर्ष की उम्र मे भी हड्डियों की ताकत को बनाए रखने में मदद करता है। स्वस्थ हड्डियों के आसानी से टूटने की कम संभावना होती हैं।

स्वस्थ ह्रदय

स्वस्थ दिल के लिए स्वस्थ संतुलित आहार जरूरी होता है। वे भोजन जिनमें संतृप्त वसा, ट्रांस वसा और कोलेस्ट्रॉल की मात्रा अधिक होती है, का ज्यादा सेवन ह्रदय रोग का कारण वन सकते हैं। यदि आप ऐसा भोजन खाते हैं जिसमें उच्च सोडियम सामग्री है तो आपपको स्ट्रोक होने की संभावना बन सकती है। एगर आप एक स्वस्थ और रोग मुक्त ह्रदय चाहते हैं तो आपको विभिन्न फलों और सब्जियों, साबुत अनाज, मांस, मछली, फलियां और वसा तथा दूध के खाद्य पदार्थ खाने की जरूरत है।

स्वस्थ संतुलित आहार एक आदर्श वजन बनाए कखने के लिए आवश्यक होता है। मोटापा ह्रदय तथा अन्य कई गंभीर रोगों को कारण बन सकता है, इसलिए अपने वजन को नियंत्रित रखें। आपका खान पान इसमें एक बडी भूमिका रखता है। अपने भोजन में एक फल, कुछ सलाद (गाजर, ककड़ी, मूली, ब्रोकोली आदि), साबुत अनाज, दाल, डेयरी प्रोडक्ट्स और कुछ प्राकृतिक तेल जरूर शामिल करें। नाश्ते में आप फल (केला, सेब, नाशपाती), दही, भुना हुआ स्नैक्स अपने साथ रख सकती हैं। अन्य विकल्प इडली, खांडवी, ढोकला, उबले हुए आलू, चाट, भेलपुरी, भुना हुआ चना और मूंगफली आदि हो सकते हैं। आप अपने साथ कुछ सूखे हुए मेवे जैसे अखरोट, बादाम, पिस्ता आदि भी रखें। इन सब खाद्य पदार्थ को अपने नियमित भोजन का हिस्सा बनाएं। भोजन संतुलित रहेगा तो जीवन भी संतुलित रहेगा।

 

 

Read More Articles on Diet and Nutrition in Hindi

0 Thoughts to “Swasth Sharir Swasth Man Essay In Hindi

Leave a comment

L'indirizzo email non verrà pubblicato. I campi obbligatori sono contrassegnati *